Festival

Makar Sankranti in Hindi जानिए क्यों मनाया जाता है मकर संक्रांति का त्यौहार

makar sankranti in hindi
Written by knowledgehindime

Makar Sankranti in Hindi : मकर संक्रांति के त्यौहार को पुरे भारत वर्ष में बड़े हर्ष उलाश में साथ 14 जनवरी को मनाया जाता है.  यह त्यौहार केवल भारत में ही नहीं बल्कि इसे विश्व के बहुत से देशो में भी मनाया जाता है, मकर संक्रांति क्यों मनाया जाता है, Makar Sankranti in Hindi, कब मनाया जाता है और इसे कैसे मनाया जाता है की पूरी जानकारी आपको यहाँ पर दी जाने वाली है. मकर सक्रांति के दिन से ही दिन बड़े और रातें छोटी होना शुरू हो जाती है क्योंकि सूर्य उतरी गोलार्ध की और चलना शुरू कर देता है.

Makar Sankranti in Hindi

हिन्दू शास्त्रों के अनुसार जब सूर्य धनु राशी को छोड़कर मकर राशी में प्रवेश करता है तो इसे सक्रांति के नाम से जाना जाता है और सूर्य के मकर में प्रवेश करने के कारण इस दिन को मकर संक्रांति के रूप में मनाया जाता है.

मकर संक्रांति को मनाये जाने की पौराणिक मिथ

महाभारत में भीष्म पितामाह को इच्छा मृत्यु का वरदान प्राप्त था, लेकिन युद्ध के बाद जब वह बन्दों की संया पर लेते थे तो उन्होंने अपनी मृत्यु की प्रतीक्षा सूर्य के उतरायण में प्रवेश करने तक की और इस दिन को अपने प्राण त्यागने के लिए चुनाव किया.

एक मिथ के अनुसार भगवान शनि को मकर राशी का स्वामी माना जाता है और वह सूर्य भगवान के पुत्र थे और इसी दिन सूर्य भगवान अपने पुत्र शनि से मिलने के लिए उनके घर जाते थे जिस कारण इस दिन को मकर सक्रांति के रूप में मनाया जाने लगा.

इस दिन गंगा माया भागीरथी जी के तपस्या के फलस्वरूप पृथ्वी पर आई थी और भागीरथी ने के पूर्वजो को तर्पण कर सागर में जाकर मिली और इसकी कारण इस दिन पर गंगा सागर के मेले का आयोजन भी किया जाता है.

मकर संक्रांति का पर्व कैसे मनाया जाता है

इस दिन पर किसी पवित्र नदी में स्नान करने के बाद भगवान की पूजा अर्चना की जाती है, भोग में तिल, गुड के लाडू को बनाया जाता है, और इस पर्व पर खिचड़ी का भोग भी लगाया जाता है. अलग अलग जगह में इस पर्व को मनाये जाने के अलग अलग कारण है बहुत सी जगह पर इस पर्व में पतंग उड़ाई जाती है, जबकि उत्तराखंड में इस पर्व को खिचड़ी बनाकर मनाया जाता है.

मकर संक्रांति का महत्त्व

मकर संक्रांति के दिन को सूर्य दक्षिणायन से उतरायण में प्रवेश करता है. शास्त्रों में सूर्य के उतरायण को देवताओं के दिन के रूप में जाना जाता है जो एक सकारात्मक रूप है, जिस कारण इस दिन पर व्रत, स्नान मंदिरों में पूजा अर्चना की जाती है और अपने दिन को शुभ बनाया जाता है. मकर संक्रांति के दिन ही किसान अपने फसल को कटना शुभ मानते है.

मकर संक्रांति का पर्व सभी के लिए एक महत्वपूर्ण स्थान रखता है. यह त्यौहार पुरे भारत वर्ष में मनाया जाता है लेकिन इसे अलग अलग नाम से जाना जाता है. आंध्रप्रदेश, कर्नाटक, केरल में इस पर्व को मकर संक्रमामा नाम से, तमिलनाडु में पोंगल, उत्तरप्रदेश और पश्चिमी बिहार में खिचड़ी पर्व, बंगाल में इस दिन को गंगा सागर मेले का आयोजन, गुजराज और राजस्थान में उतरायण, हिमांचल हरियाणा में मगही, पंजाब में लोहड़ी, कश्मीर में शिशुर सेंक्रांत के नाम से जाना जाता है.

भारत में आलावा नेपाल, थाईलैंड, म्यांमार में भी मकर संक्रांति का पर्व मनाया जाता है. नेपाल में मकर संक्रांति को माघी, माघे संक्रांति, सुर्योतरायण आदि नाम से जाना जाता है.

2019 में मकर संक्रांति कब मनाया जायेगा

मकर सक्रांति को प्रतिवर्ष जनवरी माह में ही मनाया जाता है और ज्यादातर यह पर्व जनवरी माह में 14 तारीख को ही मनाया जाता है और इस बार भी 2019 में मकर संक्रांति को 14 जनवरी को ही मनाया जायेगा. Makar Sankranti in Hindi 

Leave a Comment