' भारतीय शिक्षा प्रणाली - Education System In India - Knowledge Hindi Me - Make Your Knowledge Better

Sunday, 25 March 2018

भारतीय शिक्षा प्रणाली - Education System In India

भारतीय शिक्षा प्रणाली - Education System In India की नीव सन 1835 में रखी गई थी, किसी भी क्षेत्र के विकास के लिए शिक्षा प्रणाली का मजबूत होना अति आवश्यक है किसी भी देश का विकास उसकी शिक्षा प्रणाली पर ही निर्भर होता है क्योंकि देश के विकास के लिए देश का प्रत्येक नागरिक जिम्मेदार है और वो ही अपने ज्ञान, संस्कार, शिक्षा के आधार पर देश को एक शीर्ष स्थान दिला सकता है.
भारतीय शिक्षा प्रणाली - Education System In India
यदि शिक्षा प्रणाली में दोष पाए जाते है तो यह देश को अंधकार की ओर ले जाता है.वर्त्तमान समय में उपयोग में लाये जाने वाली Indian Education System  बिट्रिश शिक्षा प्रणाली का ही प्रतिरूप है.

वर्त्तमान शिक्षा प्रणाली का महत्व

भारत के अब तक के विकास को देख कर तो यह लगता है की देश की शिक्षा प्रणाली कितने आगे निकल पड़ी है. शिक्षा वह यंत्र है जो किसी के जीवन को आगे बढ़ने किसी का जीवन बनाने और किसी को भी सफलता दिलाने के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है.शिक्षा सभी के जीवन में एक महान भूमिका निभाती है क्योंकि वह मनुष्य के जीवन में सकारात्मक प्रभाव डालती है.
यह हमारे जीवन के रास्ते में आगे बढ़ने के लिए रूचि पैदा करती है शिक्षा केवल स्कुल जाने से ही नहीं मिलती यह हमें टीवी न्यूज़ पेपर,हमारे आप पास के वातवरण से भी हमें मिल सकती है. सरकार शिक्षा को बढावा देने के लिए बहुत से अभियान चला रही है.

भारत की शिक्षा प्रणाली के दोष

Indain Education System का सबसे बड़ा दोष यह है की देश में हर जगह पर शिक्षा देने वाले संसथान और विश्वविद्यालय की संख्या काफी अधिक हो गई है शिक्षा देना कोई गन्दा काम नहीं है लेकिन यदि शिक्षा के नाम पर व्यापार किया जाये तो फिर शिक्षा का कोई मतलब ही नहीं रह जाता है.
देश में कई संसथान ऐंसे है जो शिक्षा के साथ साथ छात्रों का भविष्य बनाने में जोर देते है और किसी भी हालत में वो छात्रों का भविष्य बनाते है. लेकिन कुछ ऐंसे भी संस्थान है जो शिक्षा के नाम पर केवल पेंसे को आधार बना कर छात्रों में प्रमाण पत्र बाँट देते है तो अब आप बताये क्या कोई इस तरह से देश का विकास कर सकता है
शिक्षा का अर्थ केवल किताबी ज्ञान से ही नहीं होता शिक्षा के अंतर्गत ज्ञान के साथ साथ किसी व्यक्ति के संस्कार आचरण का का होना भी आवश्यक है इनके बिना शिक्षा का होना ना के बराबर है

No comments:

Post a Comment